थांरौ साथो घणो सुहावै सा…

21.2.13

इमरत वाणी बोल ! राजस्थानी बोल !



आज २१फरवरी
विश्व मातृ भाषा दिवस 
रै अवसर पर एक गीत
राजस्थानी बोल !
अंजस वाणी बोल !
कीरत वाणी बोल !
इमरत वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !
करणी माता रामदेवजी तेजोजी गोगोजी
धन धन पाबूजी जसनाथजी पीपाजी जाम्भोजी
बोलग्या बै खांतीला बोल
थरपग्या लाखीणा निज मोल
भोळा, सत री वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
मीरां बोली आ बोली अर अमर हुयां हरखावै
उण रै वचनां री गंगा ओजूं लग रस छळकावै
तूं भी हिरदै नैं खंखोळ
खोलदै खीला जड़ी पिरोळ
स्याणा, सुरसत वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
गूंज्या पृथ्वीराज जणै धूज्या थर थर काफरिया
पड़गूंजां सूं घबरावै ओजूं घाती कायरिया
रचाजा ऐड़ी किरत किलोळ
बजाजा धमकै जंगी ढोल
सूरा, गरबी वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
गोरा बादळ अमरसिंघ, सिंघां नैं मात करणिया
पदमण पन्ना हाड़ी राणी भामा-सा जस धणिया
बिगाड़्या बै बैरयां रा डोळ
सिधारया इण माटी जस घोळ
लूंठा, पत री वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
बप्पा रावळ सांगा कुम्भा दुर्गादास हमीर
जैमल फत्ता महाराणा प्रताप सरीखा वीर
मात आ जाम्या रतन अमोल
अमी प्यायो वाणी हींडोळ
सपूता, सागण वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
ऊजळी जेठो, कोडमदे सादुल अर खींवो आभळ
महिंदर मूमल, ढोलो मरवण ... प्रीत पगी रस बंतळ
राग रस रंग रुणझुण रिमझोळ
उमगिया अथ आखर अणमोल
रंगीला, मीठी वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
सती जती केई गुणी सूर वाणी रै पुन्न प्रगटिया
भूपत नरपत लखपत सुगरा रजथानी केवटिया
करै राजिंद रौ हियो हबोळ
प्रीत नैं पालणियै मत तोल
सांईणा, सखरी वाणी बोल !
राजस्थानी बोल !!
-राजेन्द्र स्वर्णकार
©copyright by : Rajendra Swarnkar

सुणो सा औ गीत म्हारी धुन अर म्हारी आवाज़ में  

1 टिप्पणी:

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।