थांरौ साथो घणो सुहावै सा…

25.7.15

राजस्थानी भाषा राजस्थान मांय पूजीजैला

राजस्थान में दूजै प्रदेशां सूं आ आ'र बस जावण वाळा लोग 
आज राजस्थानी भाषा री मान्यता री संभावना देख'र नाक-भौं सिकोड़ण लाग रैया है ।
उणां नैं ललकारतां फिटकारतां थकां सुरसत चलवाई कवि री कलम

*राजस्थानी भाषा राजस्थान मांय*

आज सुणी... चींट्यां मकड़ां रै नैना पंख निकळ आया ।
बै म्हांरी मा भाषा रै अपमान मं मुंहडो मिचकाया ।।

म्हांरै घर में शरण जका ली... मालिक बणनै री सोचै ।
चक बोढ़ै चीलखड़्यां , म्हांसूं जक्यां गुलगुला ई  बोचै ।।

करै कागला कांचारोळी , कुटिल कमीणा कुचमाद्'यां ।
भाड़ैती भंडेल भचीड़ै , घरघुसिया घूंकै घात्यां ।।

अड़वा लूंट रह्या खेतां नैं , जानी बींद बण्या चावै ।
पकड़' आंगळी पुणचो पकड़ै , गळै गिंद पड़ता जावै ।।

भीतरघात करणिया कपटी लूणहरामी ऐ जबरा ।
म्हांरी रोटी जीम' थाळ रै ठोकर मार रैया नुगरा ।।

म्हारी मा नैं मिळै मानता बै कींकर होवै दोरा ?
अरड़ावै अहसाण भूल' मुस्टंडा ढीठ मुफतखोरा ।।

काळो मुंहडो करो जकां नैं म्हांरी माता दाय नहीं ।
सिंघां सूं डरज्यो बाहरलां ! म्हैं सब धोळी गाय नहीं ।।

गोता दे' काढालां सगळी बादी थां'री झड़ जासी ।
मायड़ रै बेटां सूं टच्चरबाज़ी मूंघी पड़ जासी ।।

आयोड़ा हो... महमानां ज्यूं आपै मांहीं थे रहज्यो ।
भिष्ट माजणो कर देवांला पछै न कीं म्हांनैं कहज्यो ।।

मरुमाटी रा म्हैं मालिक ; औकात थांरली थे जाणो।
मोठां री छींयां में बैठो , करो मजूरी , गुण मानो ।।

सूगलवाड़ करण री मत सोचो धींगड़ धाप्यां-धायां !
घिरत-चूरमो टांग पसार्'यां म्हांरै आंगण थे खाया ।।

मिजमानी करणी जाणां तो कंठ मोसणो भी आवै ।
म्हांसूं राड़ करणिया म्हां साम्हीं ज्यादा नीं टिक पावै ।।

आज मानता म्हांरी मा भाषा पावै... जैकार करो !
उठै मरोड़ा पेट मांय तो जावो , अळगा जाय मरो !!

है डंकै री चोट... सैंग ऐलान म्हांरलो सुण लीजो !
म्हांरी राजस्थानी पर औसाप न किरियावर कीजो ।।

निभा दिया म्हैं रिश्ता सूं बत्ता भाईपा धरमेला ।
राजस्थानी भाषा राजस्थान मांय पूजीजैला !!
©राजेन्द्र स्वर्णकार 
घणीखम्मा

कोई टिप्पणी नहीं: